Adblock Detected!

*Please disable your adblocker or whitelist a2zupload.com
*Private/Incognito mode not allowed.
error_id:202

ओड़िशा सरकार से कॉलेज के अध्यापकों के लिए: राइट की बात नहीं छोड़ दो



भुवनेश्वर: ओडिशा सरकार को छोड़ कर किसी भी आंदोलन में भाग लेने के खिलाफ सभी राज्य चलाने और सहायता प्राप्त कॉलेजों के शिक्षकों को सावधान करते हुए स्पष्ट किया गया है कि यह सही बात नहीं है
एक में मंगलवार को सरकार और सहायता प्राप्त कॉलेजों के सभी प्रधानाचार्यों के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने यह स्पष्ट कर दिया कि शिक्षण और गैर शिक्षण कर्मचारियों को केवल प्रिंसिपल का अनुमोदन प्राप्त करने के बाद छुट्टी का लाभ उठा सकते हैं
पत्र में कहा गया है कि विभाग ने राज्य भर में शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों द्वारा लिए गए अनधिकृत अवकाश के लिए कोई काम नहीं वेतन की शुरुआत की है ।
यह कॉलेजों की यात्रा के दौरान देखा जाता है कि प्रिंसिपल के पूर्व अनुमोदन के बिना या संस्था के प्रमुख को पूर्व सूचना के बिना शिक्षण और गैर शिक्षण कर्मचारियों की संख्या छुट्टी पर रहते हैं
इस संबंध में यह एतद्द्वारा स्पष्ट किया है कि प्रासंगिक सेवा नियम/छुट्टी नियम के अनुसार छुट्टी सही की बात नहीं है एक कर्मचारी के अधिकार को मंजूरी देने की छुट्टी छोड़ लेने के लिए उसे परमिट तभी छोड़ ले जा सकते हैं पत्र ने कहा
पत्र ने यह भी स्पष्ट किया कि प्रधानाचार्य की अनुमति के बिना छुट्टी को अनधिकृत माना जाएगा जिसके परिणामस्वरूप अनुपस्थिति की अवधि के लिए पारिश्रमिक की कटौती की जाएगी ।
विभाग ने प्रधानाचार्यों को आंदोलन के किसी भी रूप में भाग लेने के लिए कर्मचारियों को छुट्टी स्वीकृत न करने का भी निर्देश दिया ।
इस प्रकार की गतिविधियों में भागीदारी को अनाधिकृत अभाव माना जाएगा ।
ऐसे किसी भी कार्यकलापों में भाग लेने पर प्रतिकूल रूप से देखा जाएगा जिससे सरकारी कर्मचारियों के मामले में समयपूर्व सेवानिवृत्ति प्राप्त हो सकती है और सरकारी अनुदान सहायता (जीआईए) की सरकारी जीआईए पत्र प्राप्त करने वाले सहायता प्राप्त महाविद्यालयों के कर्मचारियों के मामले में आहरण किया जा सकता है ।
किसी भी प्रमुख प्रतिबंधों एक कर्मचारी के पक्ष में छोड़ देते हैं इस प्रकार किसी भी आंदोलन में भाग लेने के लिए उसकी मदद अगर प्रिंसिपल सहायता और इस तरह की गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएगा यह कहा

comments